Wednesday , May 25 2022

UPElection2022: अखिलेश ने दिया योगी आदित्यनाथ की ‘गरमी’ का जवाब

उत्तर प्रदेश चुनाव 2022 में आरोप प्रत्यारोप का दौर चरम पर पहुंच चुका है. शामली में समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मीडिया से बातचीत की. इस दौरान रालोद के जयंत चौधरी भी मंच पर साथ बैठे रहे. इस दौरान अखिलेश ने योगी आदित्यनाथ के गर्मी वाले बयान पर भी तीखी प्रतिक्रिया दी. साथ ही, बीजेपी की नकारात्मक राजनीति को लेकर भी बात की.

मीडिया स्वराज डेस्क

अखिलेश ने दिया योगी आदित्यनाथ की ‘गरमी’ का जवाब। भाईचारा की सियासत पर जयंत चौधरी का जोर। शामली की प्रेस कांफ्रेंस में अखिलेश यादव और जयंत चौधरी ने सभी सवालों का जबाव दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा इस बात से बौखलाई हुई है कि किसान हमारे साथ हैं। भाजपा नकारात्मक राजनीति कर रही है।

मुजफ्फरनगर और कैराना में गर्मी दिखा रहे लोगों की 10 मार्च के बाद गर्मी शांत करने और मई जून में शिमला बना देने की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बात पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पलटवार किया है। उन्होंने चुनाव आयोग से इसका संज्ञान लेने की बात करते हुए कहा कि बीजेपी ने उन्हें गोरखपुर भेज दिया इस वजह से उनमें गर्मी आ रही है।

शामली में जयंत चौधरी के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब अखिलेश यादव से योगी आदित्यनाथ के बयान का हवाला देकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, ”आप मुख्यमंत्री जी से क्या उम्मीद कर सकते हो। मुख्यमंत्री जी यह बताएं कि बिजली का बिल सस्ता होगा या नहीं। पहली बार उनकी ऐसी भाषा नहीं सुन रहा है, मैं तो कहूंगा कि चुनाव आयोग उनके बयान का संज्ञान ले कि एक मुख्यमंत्री की यह भाषा नहीं हो सकती है।

अखिलेश ने आगे कहा जहां तक गर्मी की बात है, जिस दिन गर्मी खत्म हो जाएगी, उस दिन हम लोग मर जाएंगे. जितने भी हम लोग बैठे हैं, अगर गर्म खून हमारे अंदर ना बहे तो हम जिंदा क्या रहेंगे। जहां तक मुख्यमंत्री का सवाल है, आप उनका शपथ पत्र देखिए कितनी धाराएं उनके ऊपर थीं, बीजेपी सोच रही है कि गलती तो नहीं कर दी उन्हें मुख्यमंत्री बनाकर। ये जो मुख्यमंत्री के अंदर गर्मी आ रही है वह इसलिए क्योंकि ये टिकट जगह-जगह से मांग रहे थे, मनपसंद टिकट नहीं मिला, उन्हें घर भेज दिया। प्रधानमंत्री ने उन्हें पैदल-पैदल चलाया। जो पैदल चल रहे हैं और बेदल हैं, कभी उनसे पूछिएगा कि उनका दल कौन सा है, क्या वह बीजेपी के सदस्य हैं। बीजेपी ने तय किया है कि आने वाले समय में इन्हें कुछ मिलने वाला नहीं है इसलिए उनकी भाषा बदल गई है।”

जयंत चौधरी का सम्मान बरकरार रखने का भरोसा देते हुए अखिलेश ने कहा कि बीजेपी घबराई हुई है कि किसान इस बार गठबंधन के साथ है और यह उनके मान सम्मान का चुनाव है। अखिलेश यादव ने कहा कि यह चुनाव भाईचारा बनाम भारतीय जनता पार्टी है। बीजेपी नकारात्मक बातें कर रही है और गठबंधन के साथ लोगों की उम्मीद बंधी हुई है।

इसे भी पढ़ें:

किसान आंदोलन को बदनाम करने पर तुली सरकार – जयंत चौधरी
किसान आंदोलन को बदनाम करने पर तुली सरकार – जयंत चौधरी

Check Also

चिंता पर चर्चा Part II : देश में बेरोजगारी बढ़ने से बढ़ी खुदकुशी करने वालों की संख्या, क्या कहते हैं अर्थशास्त्री

देश में बीते कुछ वर्षों में बेरोजगारी बढ़ी है, जिससे ज्यादातर लोग कर्ज के बोझ …