Wednesday , May 25 2022

Heart Disease हृदय रोग : दिल की देखभाल दिल से

#HeartDisease  #हृदय रोग  दिल तो हमेशा से नाज़ुक रहा है, पर हाल ही में हार्ट अटैक और हार्ट फेल आदि से मौत की घटनाएँ बहुत बढ़ी  हैं। विशेषकर कोरोना महामारी  के बाद नौजवान भी हार्ट अटैक का शिकार हो रहे हैं। इसलिए सजग रहना ज़रूरी है।

ऐसे अनेक मामले आए हैं जिनमें व्यक्ति का खान पान दिनचर्या आदि ठीक हैं। फिर भी अचानक हार्ट अटैक आया। कई बार आदमी इस धोखे में रह जाता है कि उसे गैस की समस्या है या पेट में दर्द, लेकिन वास्तव में होता हार्ट अटैक है।

यह जानना भी ज़रूरी है कि खून की नली या नसों में मैल कैसे जमा हो जाता है जो खून सप्लाई में रुकावट करता है। या क्या खाने में कोलस्ट्राल बढ़ता है।

हृदय रोग में कोलस्ट्राल की भूमिका क्या है।

यह समझना ज़रूरी है कि पचास साथ साल की उम्र के बाद क्या एहतियात रखना चाहिए।

एक स्वस्थ हृदय के लिए हेल्दी लाइफ़ स्टाइल क्या होनी चाहिए।

क्या कोरों की बीमारी अथवा वैक्सीन से भी हार्ट अटैक का जोखिम बढ़ जाता है।

लोग यह सवाल भी पूछते हैं कि एक स्वस्थ व्यक्ति को हार्ट का चेक आप क्यों कराना चाहिए।

अगर हार्ट अटैक का संदेह हो तो तुरंत काया करना चाहिए और क्या नहीं। क्या कुछ दवाएँ इमरजेंसी के लिए घर में रहनी चाहिए।

HELPING HEART FOUNDATION के सहयोग से लखनऊ के अनुभवी हृदय रोग विशेषज्ञ एक साथ आ रहे हैं आपके मन में उठ रहे सवालों का जवाब और टिप्स देने जिससे हम आप अपने दिल की देखभाल ठीक से कर सकें।

वरिष्ठ पत्रकार राम दत्त त्रिपाठी और कुमार भवेश चंद्र के साथ हृदय रोग पर चर्चा में शामिल हैं : हेल्पिंग हार्ट फ़ाउंडेशन की सचिव ज्योति सिन्हा, और वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ Dr R K Saran , Dr Nakul Sinha , Dr Mahim saran , Dr Ganesh Seth,Dr Avinash Singh and Dr Himanshu Gupta .

रविवार 23 जनवरी, शाम सात बजे। 

आपको आमंत्रण है । आप अपने सवाल चैट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। यहाँ भी अपनी टिप्पणी लिख सकते हैं।

कृपया इस खबर को अपने मित्रों से शेयर करें। 

Check Also

चिंता पर चर्चा Part II : देश में बेरोजगारी बढ़ने से बढ़ी खुदकुशी करने वालों की संख्या, क्या कहते हैं अर्थशास्त्री

देश में बीते कुछ वर्षों में बेरोजगारी बढ़ी है, जिससे ज्यादातर लोग कर्ज के बोझ …