Saturday , June 18 2022

रैली में बदला समाजवादी पार्टी का दफ्तर, देखें लाइव वीडियो…

आज समाजवादी पार्टी का दफ़्तर एक रैली में बदल गया है ! इतनी भीड़ जुटी है कि पक्का आज सपा नेताओं पर एफआईआर होगी ! वो चैनल वाले भी ज़ोर शोर से कोरोना की बात कर रहे है जो मोदी जी और योगी जी की अपार रैली में एक आवाज़ भी नही निकाल पाते थे !

अखिलेश यादव का संबोधन

बीते कुछ दिनों से बीजेपी में जिस तरह से लगातार विकेट गिर रहे हैं, वह अब भी थमने का नाम नहीं ले रहा। योगी जी को क्रिकेट खेलना नहीं आता, लेकिन फिर भी उनसे अब कैच छूट गया है। स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी के साथ के बाद अब इस बार चुनाव में साइकिल को जीत दिलाने से कोई भी पीछे नहीं हट सकता।

इन्होंने किसानों की आय दोगुनी करने का यकीन दिलाया था, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। किसानों को खाद तक ​नहीं दिया, डीजल, पेट्रोल कई गुना महंगा कर दिया। महंगाई ने गरीबों की जेब काटकर अमीरों की तिजोरी भरने का काम किया है।

जनता बदलाव चाहती है। परिवर्तन चाहती है। नौजवानों को लाठी मारी गई। स्वामी प्रसाद मौर्य हमारे साथ आये, तो जाने किस जमाने का आरोप उन पर फिर से लगा दिया।

आप साइकिल का हैंडल, पैडल… सबकुछ सही हो चुका है और इसे चलाने के लिये कितने ही नौजवान यहां मौजूद हैं। यही फाइनल चुनाव है। और यहां हमारी जीत पक्की है।

धर्म सिंह सैनी, संबोधन

आज का ये कार्यक्रम आचार संहिता की वजह से पार्टी कार्यलय में हो रहा है वरना अगर प्रतिबंध न होता तो 10 लाख से ज्यादा लोगों की रैली करके आपका स्वागत किया जाता.

हम मकरसंक्रांति पर शपथ लेते हैं संविधान बचाने के लिए, और दलित शोषितों को अत्याचार से बचाने के लिए हम संकल्प लेते हैं की 10 मार्च को समाजवादी सरकार बनाएंगे.

जो मानवता मुझे अखिलेश जी से मिली वो कहीं और नहीं मिली क्योंकि मैं बीएसपी और बीजेपी दोनों में रहा हूं। हम वायदा करते हैं कि मार्च में आपको मुख्यमंत्री की शपथ दिलवाएंगे और 2024 में प्रधानमंत्री की शपथ दिलवाएंगे।

स्वामी प्रसाद मौर्या संबोधन

आज मकरसंक्रांति 14 जनवरी भाजपा के अंत का इतिहास लिखने जा रहा है। आज बीजेपी के बड़े बड़े नेता जो कुंभकरण नींद सो रहे थे आज हमलोग के इस्तीफा देने के बाद उनकी नींद हराम हो गई है उन्हे नींद ही नहीं आ रही

बीजेपी के कई लोग कहते हैं की 5 साल तक इस्तीफा क्यों नही दिया? और कुछ लोग कहते हैं की बेटे की वजह से इस्तीफ़ा दिया। बीजेपी ने पिछड़ों की, दलितों और अल्पसंख्यक की आंख में धूल झोंक कर सरकार बनाई थी। कहा था की मुख्यमंत्री होंगे यादव, मौर्य या कोई भी पिछले वर्ग का लेकिन लोगों की आंखों में धूल झोंक कर गोरखपुर से ले आएं।

80 और 20 का नारा दे रहे हैं मैं तो कहता हूं की 85 और 15 का है जिसमे 85 हमारा और 15 में भी बटवारा है

आप देखिये अखिलेश यादव की प्रेस कॉन्फ़्रेंस LIVE!

इसे भी पढ़ें:

कोरोना काल में वर्चुअल रैली का अर्थ क्या हो सकता है?
कोरोना काल में वर्चुअल रैली का अर्थ क्या हो सकता है?

Check Also

चिंता पर चर्चा Part II : देश में बेरोजगारी बढ़ने से बढ़ी खुदकुशी करने वालों की संख्या, क्या कहते हैं अर्थशास्त्री

देश में बीते कुछ वर्षों में बेरोजगारी बढ़ी है, जिससे ज्यादातर लोग कर्ज के बोझ …